Scam Kya Hota Hai | स्कैम क्या होता हैं?

स्कैम (Scam) का मतलब होता हैं – धोखाधड़ी या घुटाला। और जो इन स्कैम को अंजाम देता हैं, या जो ये घोटाले करता हैं, उन्हे स्कैमर्स कहते हैं। डिजिटल वर्ल्ड में स्कैमर्स पहले से ज्यादा एक्टिव हो गए है। आज कल स्कैम करना बडा ही कॉमन हो गया हैं। आए दिन हमे कई स्कैम की न्यूज टीवी, मोबाईल, या न्यूज पेपर्स मे देखने ओर सुनने को मिलती हैं। यूजर द्वारा की गई एक छोटी सी लापरवाही ही उसके बड़े नुकसान का कारण बनती है।

स्कैम क्या होता हैं|(Scam Kya Hota Hain)

कई बार यूजर जब स्कैम (Scam)का शिकार होता है, तो उसे एक बड़ा नुकसान होने के बाद ही स्कैम में फंसने का आभास होता है। ठगी के लिए स्कैम अलग-अलग तरीकों के होते हैं। ठगी के लिए स्कैमर्स एडवांस तरीकों का इस्तेमाल करते हैं, क्योंकि ऐसे तरीकों से एक कमजोर यूजर वर्ग पर निशाना साधा जा सकता है। और इसके लिए हमे बहुत सावधानी से जाँचकर बचना अत्यंत जरूरी होता है।

स्कैम क्या होता हैं???

स्कैम(Scam) के टाइप:

स्कैम कई प्रकार के हो सकते हैं। ऑफलाइन स्कैम ओर ऑनलाइन स्कैम दोनों तरह से होते हैं। आज कल डिजिटल का दौर ज्यादा हैं, हर कोई डिजिटल के द्वारा अपडेट रहना चाहता हैं, अपने वर्क को और ज्यादा फास्ट तरीके से करना चाहता हैं। यह सही भी हैं, लेकिन स्कमर्स के लिए अब और भी ज्यादा आसान हो गया हैं स्कैम करना। 

1. फिशिंग स्कैम:

इसमें स्कैमर्स एक या अधिक फिशिंग ईमेल्स या टेक्स्ट मैसेज भेजकर व्यक्तियों को धोखे से उनके पर्सनल या financial जानकारी को show करने के लिए मांग करते हैं। इस तरह के ईमेल आमतौर पर आपके बैंक खाते, क्रेडिट कार्ड या लॉगिन क्रेडेंशियल्स को लेने की कोशिश करते हैं। जिससे की को आपके ईमेल के द्वारा आपके सारे accounts का एक्सेस ले लेते हैं, और बहुत ही आसानी से अपने scam को अंजाम देते हैं।

2. ऑनलाइन शॉपिंग स्कैम: 

आज कल लोग ऑनलाइन शॉपिंग करना ज्यादा पसंद करते हैं। इसमें व्यक्तियों को अट्रैक्ट करने के लिए विशेष छूटें या extraordinary deals के लिए वेबसाइटें बनाई जाती हैं। लोग एसे अट्रैक्टिव प्राइस देखकर तुरंत अट्रैक्ट हो जाते हैं, और जब व्यक्ति उनसे खरीदारी करने के लिए पैसे भेजता है, तो उन्हे प्रोडक्ट नहीं मिलता और उन्हें इस तरह से स्कैम का शिकार होना पड़ता हैं।

3. पोंजी स्कीम: 

यह एक इन्वेस्ट फंड है, जिसमें ग्राहकों को बिना किसी जोखिम के बड़ा मुनाफा देने का वादा किया जाता है। इस नई आय का उपयोग मूल निवेशकों को उनका रिटर्न अदा करने के लिए किया जाता है। लेकिन इसमें स्कैमर्स अचानक उच्च वायदा देकर लोगों से पैसे जमा करवाते हैं, और उन्हें वादा करते हैं, कि उन्हें उनके इन्वेस्ट के लाभ के रूप में बेहतर रिटर्न मिलेंगे। हालांकि, इस धोखाधड़ी में पैसे वापसी का कोई संभावना नहीं होती है और जितने ज्यादा लोग इसमें इन्वेस्ट करते हैं, उतना ही स्कैमर्स को लाभ होता है।

4. एटीएम स्कैम: 

एटीएम स्कैम मे कई टाइप से स्कैम करते है, जैसे – कई बार एटीएम के बाहर स्कैमर्स खड़े होकर, एटीएम use करने वाले इंसान को टारगेट करते हैं, और वह चोरी से पिन देख लेते हैं, और उसके बाद उनका पर्स चोरी करके एटीएम का use करके अच्छा खासा स्कैम कर लेते है। 

5. कार्ड स्किमिंग स्कैम: 

इस घोटाले में, स्कैमर्स कार्ड नंबर और पिन सहित कार्ड की जानकारी चुराने के लिए एटीएम मशीन में एक डिवाइस को जोड़ते हैं। जिससे की सारा डाटा लेले वह। इस जानकारी का उपयोग बाद में नकली कार्ड बनाने या ऑनलाइन लेनदेन करने के लिए किया जा सकता है।

6. कैश ट्रैपिंग घोटाला: 

इस स्कैम में, स्कैमर्स कैश डिस्पेंसर स्लॉट के अंदर एक डिवाइस का उपयोग करते हैं जो केस निकलने पर उसे रोक कर रखता है। जब उपयोगकर्ता यह मान लेते हैं, कि मशीन में केस खत्म हो गई है, और वे चले जाते हैं, लेकिन पैसे उनके अकाउंट से कट जाते हैं, फिर स्कैमर्स बाद में फंसी हुई केस निकाल लेता है।

7. ओटीपी(OTP) के द्वारा स्कैम: 

ओटीपी मिलने में देरी होती है या बार-बार ओटीपी रिक्वेस्ट भेजने पर भी नहीं मिल रहा है तो ऐसी बातों को नजरअंदाज ना करें। बैंक से जुड़ी छोटी-छोटी ट्रांजेक्शन पर नजर बनाए रखें। किसी भी संदेह की स्थिति में अपने टेलीकॉम ऑपरेटर से बात करें। या किसी के भी otp मांगने पर हमे उन्हे बिना सोचे otp नहीं देना हैं। एक otp से आपके कुछ seconds मे ही पूरा अकाउंट खाली हो सकता हैं। 

8. अनजान लिंक्स और वेबसाइट के द्वारा स्कैम: 

कई बार आप कोई एप use करते हैं, तो अचानक एक वेबसाईट या Unknown लिंक्स आपकी स्क्रीन पर दिखाई देती है। हमे बिना चेक किए हुवे उन लिंक्स पर क्लिक नहीं करना हैं। क्लिक करने पर हमारा सारा डाटा स्कैमर्स के पास चला जाता हैं। 

9. रोमांस स्कैम: 

रोमांस स्कैम एक प्रकार का ऑनलाइन फ्रॉड है जहां अपराधी डेटिंग वेबसाइट, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म या अन्य ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स पर नकली पहचान बनाकर लोगों को ठगते हैं। ये स्कैमर्स आमतौर पर शिकार फंसाने और उनका विश्वास हासिल करने के लिए आकर्षक फोटो और आकर्षक प्रोफाइल का उपयोग करते हैं। जब किसी डेटिंग एप या अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से वो किसी के साथ रोमांटिक-रिलेशनशिप स्थापित कर लेते हैं उसके बाद शुरु होता है। 

स्कैम से कैसे बचे?

स्कैम(Scam) से कैसे बचे?

स्कैम से बचने के लिए कुछ उपाय हैं जिन्हें आप अपना सकते हैं, और होने वाले बड़े नुकसान से आप बच सकते हैं। 

जागरूक रहें: स्कैम के बारे में जागरूक रहना बहुत आवश्यक है। आपको अपने आस-पास होने वाले स्कैम के प्रकारों को समझना चाहिए, की किस तरह के ये हो सकते हैं, इन सब स्कैम की आपको जानकारी होना बहुत जरूरी हैं। जैसे कि फिशिंग ईमेल, फोन कॉल स्कैम, लॉटरी स्कैम, पोन्जी योजना आदि।

विश्वासयोग्य स्रोतों से संपर्क करें: अगर कोई अनजान व्यक्ति आपसे पैसे मांगने की कोशिश करता है तो उससे पहले सत्यापन करने के लिए उसके विश्वासयोग्य स्रोतों से संपर्क करें। अनजान लिंक्स ओर वेबसाईट पर क्लिक करने से बचे। 

पर्सनल जानकारी को साझा न करें: कभी भी अपनी पर्सनल जानकारी, जैसे कि बैंक खाता जानकारी, पासवर्ड, यूजरनेम, आधार नंबर, पेन नंबर आदि को अनजान व्यक्तियों के साथ शेयर न करें। अपना पासवर्ड समय समय पर चेंज करते रहे। 

सतर्क रहें: आपको सतर्क रहने की आवश्यकता है जब आप ऑनलाइन व्यवसायिक लेनदेन, शॉपिंग या बिक्री करते हैं। लिंक्स पर क्लिक करने से पहले उन्हें सत्यापित करें, आधिकारिक वेबसाइटों का उपयोग करें और विश्वासयोग्य विधि का उपयोग करें। 

एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का उपयोग करें: अपने कंप्यूटर और स्मार्टफोन में एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का उपयोग करें जो आपको फिशिंग वेबसाइट्स और वायरसों से बचाएगा।

स्कैम(Scam) हो जाने के बाद क्या करें?

स्कैम(Scam) हो जाने के बाद क्या करें?

इसके लिए सबसे पहले तो आप इस https://www.cybercrime.gov.in वेबसाइट पर आपको जाना होगा. यहां आपको कई सारे ऑप्शन मिलेंगे, जिसमें आपको Report Cyber Crime सेक्शन पर क्लिक करना होगा। यहां आपको File a Complaint का विकल्प मिलेगा। आपको एक मैसेज पढ़कर I Accept चेक बॉक्स पर क्लिक करना होगा और जो भी स्कैम हुआ हैं उसके बारे मे सारी जानकारी Complaint मे मेन्शन करना होगा। या आप अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन मे भी शिकायत कर सकते हैं। वह आपको उसके बारे मे और अधिक जानकारी दे सकते हैं। और समय समय पर अपनी Complaint का अपडेट लेते रहे। 

स्कैम(Scam) हो जाने के बाद क्या करें?

अगर आपके बैंक खाते या किसी अन्य फाइनेंशियल खाते का इस्तेमाल स्कैम के लिए किया गया है, तो तुरंत बैंक और उसी इंस्टीट्यूशन को इस बारे में सूचित करें ताकि वे उचित कदम उठा सकें। उसके बाद वे आपके अकाउंट पर कुछ भी ऐक्टिविटी हो उससे पहले वे उसे बंद कर देंगे, और बाद मे आप अपना पासवर्ड अपडेट करले। 

ऑनलाइन धोखाधड़ी और स्कैम के बारे में अधिक सीखने के लिए समय निकालें और आपके लिए सुरक्षित रहने के उपाय समझें। किस तरह से बचा जाए इन स्कैम से ये सीखे, इससे आप भविष्य में स्कैम से बच सकते हैं। 

Conclusion: 

स्कैम आए दिनों बहुत सुनने को मिलता हैं, कई बार हमारे पास भी कई unknown कॉल या मेसेजेस आते हैं। हमे लुभावने ऑफर्स दिए जाते हैं, कभी हमे लॉटरी का तो कभी सबसे पुराने कस्टमर होने का दावा करके, हमे बताया जाता हैं की आप इतने पैसे जीत चुके हैं, पर आपको पहले इतने पैसे जमा करने होंगे। लेकिन आपको इन फालतू बातों मे बिल्कुल नहीं आना हैं, यह सब उनके स्कैम का एक पार्ट होता हैं।

हम जितने ज्यादा सतर्क रहँगे उतने ज्यादा हम स्कैम से बच सकते हैं। थोड़ी सेे लालच मे हमारे पूरी लाइफ की सैविंग कुछ ही मिनटों मे जीरो हो सकती हैं। हर मेल या मेसेज को ध्यान से देखे ओर बिना जानकारी के कोई भी कदम न उठाए, अगर आपके साथ स्कैम हो गया हैं, तो तुरंत आप एक्शन ले। चुप न बैठे। 

FAQs:

स्कैमर्स किसे कहते हैं?

जो स्कैम करता हैं, या जो ये घोटालो को अंजाम देता हैं, उन्हे स्कैमर्स कहते हैं। 

स्कैम के बाद क्या करना चाहिए?

स्कैम का शिकार अगर आप हो चुके हो तो तुरंत ही आनलाइन और ऑफलाइन दोनों टाइप की Complaint आपको जितनी जल्दी हो सके करना हैं। और स्कैम के बाद अपने बैंक अधिकारी को इस स्कैम के बारे में जरूर बताए ताकि वे तुरंत एक्शन ले। 

क्या स्कैमर्स को पकडा जा सकता हैं?

जी हाँ, अगर आप समय से Complaint करदेते हैं, तो पुलिस या साइबर क्राइम ब्रांच तुरंत एक्शन लेते हैं। और कई स्कैमर्स को पकडा भी गया हैं।

काम पर घोटाला हो जाए तो क्या करें?

यदि आप कोई नौकरी स्कैम (scam) देखते हैं, या किसी का पैसा खोते हैं, तो इसकी रिपोर्ट रिपोर्टफ्रॉड.एफटीसी.जीओवी पर एफटीसी को करें। आप इसकी रिपोर्ट अपने राज्य के अटॉर्नी जनरल को भी कर सकते हैं। ताकि आपकी शिकायत का जल्द निराकरण हो सके।

साइबर क्राइम में क्या मतलब हैं?

साइबर अपराध ऑनलाइन इंटरकनेक्टेड सिस्टम, डिजिटल संपत्ति और संवेदनशील व्यक्तिगत जानकारी या स्वास्थ्य जानकारी को लक्षित करता है। ये फोन, कंप्युटर, डिजिटल एप आदि के द्वारा होता हैं।

Also Read These Post

टिफिन सर्विस बिजनस कैसे स्टार्ट करे| (Tiffin Service Business Kaise Start Karen)

Which Is the Best Engineering Course

How to Start Blogging in India

Play Store ki ID kaise banaye

Keibul Lamjao National Park

Surdas Ka Jivan Parichay

Online PAN Card Kaise Banaye| ऑनलाइन पेन कार्ड कैसे बनाए

Jaipur me Ghumne ki Jagah

How to Get a Proxy for WhatsApp

How to earn money on Facebook $500 every day

How to Delete a Pinterest Account

Download MP3 from YouTube

Spanish Island Known for Its Nightlife

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *