भारतीय समाजशास्त्री जी.एस. घूर्ये (गोविंद सदाशिव घूर्ये) का जीवन 

भारतीय समाजशास्त्री जी.एस. घूर्ये (गोविंद सदाशिव घूर्ये) का जीवन 

जी.एस. घूर्ये (गोविंद सदाशिव घूर्ये) सिंधुदुर्ग जिले के मालवन के मूल निवासी हैं और इंटर तक की उनकी शिक्षा जूनागढ़ में हुई थी. वर्ष 1918 में उन्होंने संस्कृत और एम. ए._ उत्तीर्ण। उनके पास बी. ऐ. भाऊ दाजी पुरस्कार और गंगादास कालिदास छात्रवृत्ति परीक्षा में प्राप्त हुई थी। बाद में वे एल्फिंस्टन कॉलेज में साउथ फेलो थे। एम. ए. उन्हें चांसलर मेडल, भगवानदास पुरुषोत्तमदास और सर लॉरेंस जेकिन्स स्कॉलरशिप से सम्मानित किया गया। बाद में उन्हें स्प्रिंगर रिसर्च स्कॉलरशिप और भगवानदास मूलजी पुरस्कार मिला।

जी.एस. घूर्ये (गोविंद सदाशिव घूर्ये)
गोविंद सदाशिव घूर्ये (image credit :- Wikipedia)

पूरा नाम– गोविंद सदाशिव घूर्ये

जन्म– 12 दिसंबर 1893 में

स्थान – मालवन पश्चिम भारत के कोंकण तटीय प्रदेश के छोटे से कस्बे में हुआ था

परिवार – उनका परिवार एक संपन्न व्यापारी व्यापारी था लेकिन बाद में उनका पतन हो गया

वर्ष 1919 से गोविंद सदाशिव घूर्ये कुछ समय के लिए एलफिंस्टन कॉलेज में संस्कृत के प्रोफेसर रहे। 1919 से 1920 तक, उन्होंने यूनिवर्सिटी स्कूल में समाजशास्त्र का अध्ययन किया, और विश्वविद्यालय की छात्रवृत्ति प्राप्त करने पर, वे आगे की पढ़ाई के लिए इंग्लैंड चले गए।

1920-1923 की अवधि के दौरान लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स और कैम्ब्रिज में अध्ययन करने के बाद, गोविंद सदाशिव घूर्ये ने पीएच.डी. कैम्ब्रिज से किया, उन्होंने 1923 से पहले सरकारी अधीनस्थ सेवा से इस्तीफा दे दिया। उन्हें मुंबई विश्वविद्यालय से एक वर्ष के लिए विशेष छात्रवृत्ति मिली। वर्ष 1924 से बंबई विश्वविद्यालय ने उन्हें ‘समाजशास्त्र में पाठक’ के रूप में नियुक्त किया।

गोविंद सदाशिव घूर्ये की कई पुस्तक समीक्षाएं ‘सर्वेंट ऑफ इंडिया’, ‘सोशल सर्विस क्वार्टरली’, ‘जर्नल ऑफ द बॉम्बे ब्रांच ऑफ द रॉयल एशियाटिक सोसाइटी’, ‘करंट साइंस एंड जर्नल ऑफ द यूनिवर्सिटी ऑफ बॉम्बे’ में प्रकाशित हुई हैं। इसके अलावा उनके लेख लंदन, विएना से सोशियोलॉजिकल और मैन इन इंडिया पत्रों में प्रकाशित हुए हैं। उनका शोधपरक लेखन निरन्तर चलता रहता है। 1983 में 90 वर्ष की आयु में गोविंद सदाशिव घूर्ये का निधन हो गया।

Read Also :-

सहकारी बैंक भर्ती 2022 : 26 नवंबर 2022 से शुरू हो गये आवेदन
बचत कैसे करें ? इन छोटी-छोटी बातों को ध्यान में रखकर आप कर सकते हैं महीनों में हजारों की बचत

जी.एस. घूर्ये (गोविंद सदाशिव घूर्ये) की उपलब्धियां –

1913 :- एलफिंस्टन कॉलेज मुंबई में प्रवेश किया संस्कृत (ऑनर्स )में स्नातक। स्नातकोत्तर की उपाधि संस्कृत तथा अंग्रेजी में इसकी कॉलेज में1918।

1919:-समाजशास्त्र में विदेश में प्रशिक्षण हेतु छात्रवृत्ति के लिए चयनित प्रवेश में लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स में एलटी हाउस अपने समय के प्रमुख समाज शास्त्री द्वारा  पढ़ाए गए बाद में कैंब्रिज में डब्ल्यू एच आर जी द्वारा पढ़ाए गए उनके प्रसार वादी दृष्टिकोण से प्रभावित हुए।

1923:- 1922 में रिवर्स के आकस्मिक निधन के पश्चात ए सी  हेडन के निर्देशन में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की मई में मुंबई वापस आए कास्ट एंड रेस इन इंडिया पीएचडी पर आधारित पांडुलिपि पर के ब्रिज में पुस्तक की एक श्रंखला प्रकाशित करने की स्वीकृति हुई।

1924:- थोड़े समय तक कोलकाता में रहे ने के पश्चात मुंबई विश्वविद्यालय में रीडर तथा विभाग अध्यक्ष के रूप में नियुक्त जहां अगले 35 वर्ष तक रहे।

1936:- मुंबई विश्वविद्यालय के विभाग में पीएचडी की उपाधि प्रारंभ की भारतीय विश्वविद्यालय में समाजशास्त्र में प्रथम पीएचडी उपाधि घूर्ये के निर्देशन में  जी आर प्रधान को प्रदान की गई इस स् स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम को प्रभावित किया और 1945 में पूर्ण कालीन 8 कोर्स में समाजशास्त्र का पाठ्यक्रम प्रारंभ किया।

1951:-  घूर्ये द्वारा इंडियन सोशियोलॉजिकल सोसाइटी की  स्थापना की गई तथा इसके संस्थापक अध्यक्ष बने द इंडियन सोशियोलॉजिकल सोसाइटी में 1952 में अपने जनरल सोशियोलॉजिकल बुलेटिन का प्रारंभ किया।

1959:- 1959 में विश्व विद्यालय में सेवानिवृत्त हुए लेकिन शैक्षिक जीवन में क्रियाशील रहे मुख्य रूप से प्रशासन के क्षेत्र में  30 में से 17 पुस्तकें उनके सेवानिवृत्त होने के बाद लिखिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10 things to know about – NASA कितना तेज़ है नासा का वाईफ़ाई, क्या आपको NASA का WIFI मिल सकता है? Steps you can take to improve your website’s SEO and boost its ranking on Google Most Runs in ODI Most Sixes for India in ODIs SSC MTS Recruitment 2023 Notification Out JEE Main Admit Card 2023 released 5 Most using shortcut keys in your laptop or computer How to Get a Job: 10 Effective Tips to Land Your Next Role युवाओं को बर्बाद करने वाली 4 आदतें